फ्लेश बैक , अनसुलझे सवाल – डी पी माथुर

क्राइम जर्नलिस्ट(टीम)

*फ्लेश बैक , अनसुलझे सवाल – डी पी माथुर*

फरवरी के अंत और मार्च की शुरुआत जिले में कोरोना संक्रमण की स्थिति के लिहाज से सुकून भरा था जब स्थिति लगभग नियंत्रण में थी और एक्टिव केस इकाई के आंकड़े तक यानि 7-8 केस के करीब ही थे।
सीकर जिला कलेक्टर अविचल चतुर्वेदी ने शायद स्वविवेक से कोरोना संक्रमण के संभावित फैलाव का आंकलन किया और खाटूश्यामजी का मेला नहीं आयोजित करवाने का निर्णय लिया होगा, यहाँ तक कि इस अवसर पर होने वाले स्थानीय अवकाश को भी गणगौर त्यौहार पर तय कर दिया था। लेकिन कलेक्टर को अपना ही निर्णय बदलकर खाटू श्याम मेला और अवकाश यथावत रखना पड़ा।
अब परिणाम सबके सामने है।कोरोना संक्रमण का फैलाव वापस विकराल रूप धारण कर चुका है। संभागीय आयुक्त भी खाटू कस्बे ओर जिले का दौरा , मेले की समीक्षा कर निगरानी बनाये हुए है। हर तरफ से जानकारियां जुटाने , चिकित्सा विभाग द्वारा जारी जिले की दैनिक कोरोना अपडेट का अध्ययन करने, मंथन विश्लेषण करने के बाद सवालों की पूरी फेहरिस्त बनकर उभर आई जिनके जवाब तलाशते नहीं मिल पा रहे है।
*सवाल न.1*
क्या मेले का आयोजन राजनीतिक दबाव या मंदिर कमेटी के दबाव में किया गया या फिर जनभावनाओं को देखकर या स्वविवेक से ही?
*सवाल न.2*
अब जब आयोजन किया ही जा चुका है और जिन आशंकाओ के चलते मेले का आयोजन नहीं करने का निर्णय लिया गया था वही आशंकाएं अब परिणाम के रूप में सामने है और जिले में कोरोना संक्रमण फैलाव का प्रमुख कारण बन चुका है तो इसके लिए नैतिक जिम्मेदारी स्वास्थ्य विभाग लेगा या देवस्थान विभाग, मंदिर कमेटी लेगी या जिला प्रशासन?
*सवाल न.3*
खाटूश्यामजी कस्बे की धर्मशालाओ ओर कथित बड़ी होटलों के पचासों कर्मचारी कोरोना संक्रमित पाए गए। क्या वो कर्मचारी आपस में ही एक दूसरे से संक्रमित हुए या उन बड़ी होटलों में ठहरने वाले “धन्नासेठ” ओर होटल मालिक या प्रबंधन या फिर स्थानीय नगर पालिका का वह “पिद्दी सा बाबू” जिसका तबादला करौली कर शायद उसके सिर ठीकरा फोड़ दिया गया…….? और क्या संक्रमण फैलाव की कड़ी को जाँचा परखा गया कि वो कौन है जो संक्रमण फैलाने जैसा जघन्य अपराध कर छुप गए और उनके खिलाफ क्या कोई कार्यवाही का जतन किया जा रहा है?

सेराज खान / गोविन्द अग्रहरि / नितेश पाण्डेय / श्याम अग्रहरि

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read also x