सब ए बरात के मौके से एक आशिके रशूल अवैष करनी की याद

क्राइम जर्नलिस्ट(सम्पादक-सेराज खान)

सब ए बरात के मौके से एक आशिके रशूल अवैष करनी की याद।

सब ए बरात के मौके पर लोगो ने अपने अपने घरों को जगमगाया।

जनपद-सोनभद्र/हजरत अवैष करनी रजिअल्लाहो तआला अन्हो के नाम से पूरे दुनिया मे यह रात मशहूर हैं और अल्लाह के इबादत की रात होती हैं।इस रात में खुशुसियत के साथ आशिके रशूल हजरते अवैष करनी रजि0 अल्लाहो तआला अन्हो को याद किया जाता हैं।

हजरते अवैष करनी बैतूल मुक़्क़द्दश में पैदा हुए आप के वालिद मोहतरम आप के छोटी उम्र में ही दुनिया से रुखद पर्दा हो गए।आप की परवरिश आप की वालिद मोहतरमा ने किया,जब अवैष करनी रजि0 ने होश संभाला तो अपनी वालिदा को बीमार व नादिना पाया उसी वक्त से आपने अपनी वालिदा की खिदमत और फर्मा बरदारी को अपना फरीजा बना लिया और इसी खिदमत की बुनियाद पर आप अल्लाह व रशूल की बारगाह में मकबूल हुए।

हजरते अवैष करनी की सोहरत आशिके रशूल की निस्बत से ज्यादा है।

आप का सुमार अल्लाह और उसके रशूल के मुखलिश बंदों में होता हैं।

आपने नवी सलल्लाहो अलैहि वसल्लम का जमाना पाया लेकिन आपने हजरत मुहम्मद मुस्तफा सल्ललाहो वलैहि वसल्लम के दीदार का फैज हासिल नही कर पाए।

इसकी वजह ये बताई जाती हैं कि ओ अपनी वालिदा की जईफी और नाबीना होने की वजह से वालिदा को छोड़ कर सफर नही कर सकते थे।वालिदा की खिदमत की बुनियाद पर और अपनी मुहब्बत की बुनियाद पर मुहम्मद मुस्तफा सल्लालाहो वलैहि वसल्लम ने खराजे तहशीन पेश किया।

आप हुजूर मुहम्मद मुस्तफा सल्ललाहो वलैहि वसल्लम से कितनी मुहब्बत फरमाते थे इसका अंदाजा इस बात से लगाए की रसुलूल्लाह सल्ललाह वलैहि वसल्लम ने सहाबा को हुक्म दिया था कि तुममे से जो भी अवैष करनी से मिले तो उससे दुआ कराये।

एक रवायत के मुताविक हजरते उमरे फारूक रजि अल्लाहो तआला अन्हो को हुक्म दिया था कि ऐ ऊमर जब तुम अवैष करनी से मिलो तो उसे मेरा सलाम कहना, और कहना कि तुम्हारे लिए दुआएं मगफिरत करे क्यो की ओ बहुतो की सफाअत करेगा।

एक और रवायत में हैं कि हजरते ऊमर और साथ मे हजरते शेरे खुदा अलि दोनों को हजरते अवैष करनी से तलबे दुआ का हुक्म दिया था।और दोनों साहेबान ने हजरते अवैष करनी से दुआ कराई।

सेराज खान / गोविन्द अग्रहरि / नितेश पाण्डेय / श्याम अग्रहरि

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read also x