हरियाणा में घरों में आंबेडकर की फोटो लगाएंगे किसान, जानें- आंदोलन को लेकर क्या है यह नई रणनीति

क्राइम जर्नलिस्ट(टीम)

इस मीटिंग में दलितों और जाटों के बीच एकता स्थापित करने को लेकर बात हुई। मीटिंग में यह प्रस्ताव भी पारित हुआ किसान अपने घरों में दलित आइकॉन बाबा साहेब आंबेडकर की तस्वीरें लगाएं। इसके अलावा दलितों को अपने घर में सर छोटू राम की तस्वीरें लगाने के लिए कहा गया। सर छोटू राम को जाटों के बीच एक आइकॉन के तौर पर देखा जाता है।

चंदूनी ने इस मीटिंग के दौरान कहा कि हमारी लड़ाई सिर्फ सरकार के खिलाफ ही नहीं है बल्कि पूंजीवाद के भी खिलाफ है। उन्होंने कहा कि आज भी सरकार हमें बांटने में लगी है। कभी यह बंटवारा जाति के नाम पर किया जाता है तो कभी मजहब के नाम पर। हम सरकार की साजिशों को समझते हैं।

यही नहीं किसान महापंचायत में आंदोलन को दूसरे राज्यों तक ले जाने पर भी बात हुई। चंदूनी ने कहा कि हमें हरियाणा और पंजाब में महापंचायतें करने की जरूरत नहीं है। आंदोलन को दूसरे राज्यों तक ले जाना होगा। उन्होंने कहा कि मजदूरों को यह समझना होगा कि तीन कृषि कानूनों के खिलाफ लड़ाई सिर्फ किसानों की ही नहीं है। इससे मजदूर भी प्रभावित होंगे। इसलिए हमारी अपील है कि वे भी इस आंदोलन का हिस्सा बनें। यही नहीं उन्होंने आगामी पंचायत चुनावों का जिक्र करते हुए महापंचायत में मौजूद लोगों से अपील की कि बीजेपी को छोड़ आप लोग किसी को भी वोट कर सकते हैं।

सेराज खान / गोविन्द अग्रहरि / नितेश पाण्डेय / श्याम अग्रहरि

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read also x