सोनभद्र में नैतिकता की दूसरी आजादी की लड़ाई का अलख जगाए -हरिराम चेरों विधायक

क्राइम जर्नलिस्ट(सेराज खान-सम्पादक)

सोनभद्र में नैतिकता की दूसरी आजादी की लड़ाई का अलख जगाए -हरिराम चेरों विधायक

आदिवासी समाज का जीवन असली संस्कृति का जड़

बनवासी सेवा आश्रम में दो दिवसीय ग्राम स्वराज्य सम्मेलन का समापन

दुद्धी/सोनभद्र। सामाजिक सस्थान बनवासी सेवा आश्रम के विचित्रा महा कक्ष में आयोजित दो दिवसीय ग्राम स्वराज्य सम्मेलन का सोमवार को गाँवो को स्वावलम्बी और प्रदूषण मुक्त समाज का निर्माण करने के संकल्प के साथ सम्पन्न हुआ। अपने संबोधन में दुद्धी विधायक हरि राम चेरो ने कहा कि आज सोनभद्र में नैतिकता और भ्र्ष्टाचार मुक्त समाज निर्माण की दूसरी आजादी की लड़ाई की आवश्यकता है।कहा कि सोनभद्र के आदिवासियों के विकास में स्वर्गीय प्रेम भाई का देन है।लेकिन अब कमीशन खोरी,शराब से मुक्ति की मुहिम चलानी होगी। कहा कि आज आदिवासी पिछड़े है तो उसका मूल कारण शराब है। पीवी राजगोपाल ने जमीन से जुड़े आंदोलनों की विस्तार से चर्चा की।कहा कि दुनिया भर में आज आदिवासियों की जमीन की चर्चा है। दूसरे सत्र के मुख्य अतिथि चंद्रशेखर प्राण ने गांधी के सपनो का ग्राम स्वराज्य लाने के लिए तीसरी सरकार की वकालत करते हुए कहा कि ग्राम सभा को मजबूत करना होगा।राम धीरज भाई ने किसानों के हक और वर्तमान परिस्थियो की चर्चा की।और कहा कि दूरी दुनिया मे कॉरपोरेट कृषि युत जमीन खरीद रही है।हमे सचेत रहना होगा। शुभा प्रेम ने आश्रम द्वारा चलाये जा रहे कार्यक्रमों और क्षेत्र में स्वास्थ्य, जैविक खेती , ऐरा प्रथा,स्वावलबन की विस्तार से बात रही।डॉ लखन राम जंगली ने कविता के माध्यम से प्रदूषण की समस्या रखी और प्रेम भाई रागिनी बहन को याद किया डॉ विभा ने स्वास्थ्य चेतना कार्यक्रमो की जानकारी दी। जगत भाई ने प्रदूषण को लेकर क्षेत्र में आ रही समस्या की जानकारी दी।सम्मेलन मे पूर्व मंत्री सुभाष खरवार,देवनारायण खरवार ,श्याम सुंदर ,रामजतन, आदि ने संबोधित किया। अध्यक्षता करते हुए पंडित अजय शेखर ने लोगो का आह्वान किया कि संस्कृतिक चेतना को मजबूत करें और सावधन रहे अन्यथा शिक्षा स्वास्थ्य की अनदेखी हम सब पर भारी पड़ेगी मौके पर रमेश शर्मा प्रोबेशन अधिकारी गायत्री ,नीलम सिंह सतेंद्र सिंह, जितेंद्र भारद्वाज,आशीष द्विवेदी अरुण ताड़े, रघुनाथ भाई,विजय कनौजिया, रीना ,शिवनारायण यादव,कैलाश समेत सैकड़ो लोग उपस्थित रहे। संचालन शिवशरण सिंह ने किया।

सेराज खान / गोविन्द अग्रहरि / नितेश पाण्डेय / श्याम अग्रहरि

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read also x