मिशन शक्ति”पर खुलकर महिलाओं ने रखी बात

  • क्राइम जर्नलिस्ट(टीम)
  • मिशन शक्ति” पर महिला सशक्तिकरण को लेकर जनजागरूकता अभियान में खुलकर महिलाओं ने रखी बात।

  • बौद्धिक व सांस्कृतिक कार्यक्रमों ,महिला सेल्फ डिफेन्स ,कठपुतली नृत्य,लोकगायन कार्यक्रमों ने शमा बाँधा।

दुद्धी – सोनभद्र/ स्थानीय तहसील सभागार में आज नवरात्र से शुरू हुए ” मिशन शक्ति “पखवारे का भव्य समापन आज हुआ। कार्यक्रम की शुरुवात मुख्य अतिथि क्षेत्रीय हरिराम चेरों तथा विशिष्ट अतिथि वनवासी सेवा आश्रम ,से आई बहन शुभा प्रेम ,उपजिलाधिकारी रमेश कुमार ने माँ दुर्गा के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्वलितकर श्रद्धा सुमन अर्पित कर किया।साथ मे ई ओ अनीता शुक्ला भी मौजूद रही। कार्यक्रम की अध्यक्षता उपजिलाधिकारी रमेश कुमार ने किया।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए विधायक श्री चेरों ने कहा कि मुख्यमंत्री के द्वारा 17 अक्टूबर से नवरात्र के प्रारम्भ होते ही “मिशन शक्ति “तहत महिला सुरक्षा के लिए लिए विभिन्न थानों में व तहसील मुख्यालय पर महिला हेल्प डेस्क खुलवाया वहीं उनके निर्देश पर जगह जगह महिलाओं ने रैली निकाल कर जनजागरूकता फैलाया गया। उनके इस कदम से महिलाओं का मान सम्मान हर तरफ बढ़ोत्तरी हो रही है।आज अंतिम चरण में पूरे प्रदेश में सरकार के तय कार्यक्रम के तहत समापन के रूप में प्रत्येक तहसील में यह कार्यक्रम रखा गया है।जब से उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सरकार बनी है या केंद्र सरकार बनी है।दोनों सरकार महिला उत्पीड़न को रोकने पर बराबर काम कर रही है और समाज मे महिलाओं को सम्मान से जीने का हक प्रदान कर रहीं है।विशेष कार्यक्रम के तहत 9 दिन के नवरात्रि के पर्व पर विशेष पखवारे का आयोजन किया गया था। नारी को लक्ष्मी के रूप में माना जाता है जहां जहां नारियों की पूजा होती है वहां लक्ष्मी का वास होता है। उपजिलाधिकारी रमेश कुमार ने कहा कि महिला अपराध की जो शिकायते है उसे छात्र छात्राएं तहसील व कोतवाली में खुले महिला सहायता केंद्र पर शिकायतें दर्ज कराएं ,महिलाएं व छात्राओं के साथ कोई भी घटना घटित होती है तो वे हेल्पलाइन नं पर पुलिस को सूचना दे जिससे उन्हें न्याय मिल सके।

सीओ रामाशीष यादव ने कहा कि महिला अपराधों को रोकने में पुलिस की पहली प्राथमिकता होती है। पुलिस पहले चाहती है कि अपराध होने न दे दूसरी यदि हो गयी तो बड़ी कार्यवाही होती है।
साइबर क्राइम के जरिए डेटा चोरी रोकने के लिए फेसबुक का प्रोफ़ाइल बन्द रखे,सोशल मीडिया पर आने जाने का लोकेसन न दे अधिकारियों का भी प्रोफ़ाइल फर्जी बनाकर लोग पैसे ठगे जा रहे है।साइबर की दुनिया से बचने के लिए अनचाहे लोगो का फ्रेंड रिक्वेस्ट न एक्सेप्ट करे फोन लॉक रखे।

वहीं सेल्फ डिफेंन्स के बारे प्रकाश डालते हुए कहा कि कोई हाथ पकड़े तो नाक,कमर पकड़े तो कानी अंगुली,कन्धे पर हाथ बल पकड़े तो तो उससे बचाव के टिप्स दिए।

बेबी गुप्ता ने महिलाओं के कानून पर चर्चा की सार्वजनिक जगह पर होने वाले अपराध पर प्रकाश डाला। राजकीय बालिका इंटर कालेज की अध्यापिका रीता राय ने कहा कि आधुनिक समाज में पुरुष व नारी दो अलग अलग पहिया है।आवश्यक यह है कि समाज में दोनो लोग साथ मिलकर काम करे।लड़कियों व लड़को में भेद भाव न करें कानून चाहे जो बने विचारधाराओ में परिवर्तन लाना पड़ेगा।लड़कियों को ज्यादा दबाव में न रखे ।

प्राचीन काल की भारतीय सभ्यता में सीता ,अनसुइया के बारे में भी प्रकाश डाला। साथ ही सतीप्रथा आदि कुरीतियों के बारे में भी बताया। नारियो की प्राचीन सभ्यता से लेकर आधुनिक परिवेश तक कि चर्चा करते हुए कहा कि हमें सोच बदलनी होगी।
नारी को स्वतन्त्र बनाना चाहिए व वर्तमान में जो भी योजनाए चल रही है नारियो को बताना चाहिए।

डॉ अनिता शुक्ला ने प्रकाश डालते हुए कहा कि प्रशासन में महिलाओं की भूमिका महत्वपूर्ण है आप अपनी शक्ति को भीतर से पहचानिए।
कहा कि बेटी पैदा होने पर लोग शोक क्यो मनाते है अगर समाज को बदलना है तो नारियो के प्रति सोच बदले।

इससे पूर्व जीजीआईसी की बालिकाओं ने सरस्वती वंदना के साथ कार्यक्रम की शुरुवात की। वहीं सोनांचल की प्रीति ,प्रिया छात्राओं ने स्वागत गीत से अतिथियों का अभिवादन किया।

कार्यक्रम वैशाली अग्रहरि का झांसी की रानी के रूप में प्रस्तुति लोगों मन मोह लिया।
हिंडाल्को जन सेवा ट्रस्ट के द्वारा कठपुतली के माध्यम से नारी सशक्तिकरण को लेकर विशेष झांकी व लोक गायन प्रस्तुत किया गया।

कार्यक्रम के दौरान बहन शुभा प्रेम सामाजिक कुरीतियों पर तीखी टिप्पणी करते हुए घर में महिलाओं को भेदभाव लड़के और लड़कियों में असमानता का परिवार में भाव, साहित्यकारों द्वारा अपने रचनाओं में महिला को निर्बल असहाय और लाचार दिखाया जाना आदि विषयों पर प्रेरक शब्द कहे और बदलते परिस्थिति में शब्दों के चयन में सावधानी बरतने की आवश्यकताओ पर जोर दिया, साथ ही उन्होंने कहा कि नारी को स्वतंत्र बनाना ही नारी सशक्तिकरण सही मायने में होगा। एनटीपीसी से सीनियर मैनेजर हिमालिनी ने यूनेस्को के 15 लाख लोगों की शादी बाल विवाह के रूप में किए जाने और सामाजिक विषमताओं पर विस्तार से प्रकाश डाला, साथ में CSRभी रही।

तहसीलदार सुरेश चंद्र , जीजीआईसी के प्रिंसिपल राधेश्याम ने भी महिला सशक्तिकरण पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम में छात्राओं द्वारा प्रस्तुत किये गए कार्यक्रम को उपजिलाधिकारी ने सराहा वहीं आये सभी अतिथियों के प्रति आभार जताया।इस मौके पर ममता मौर्या , महिला पत्रकार जूही खान के साथ दर्जनों महिलाएं व छात्र छात्राएं मौजूद रहीं| कार्यक्रम का संचालन शिक्षिका वंदना कुशवाहा व लेखपाल कुमारी अंजना ने किया।

अंत में विधायक ने महिला हेल्पलाइन से जुड़ी महिलाओं को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। उप जिलाधिकारी दुद्धी के दिशा निर्देशन में शानदार और प्रेरक कार्यक्रम कि लोगों ने भूरी भूरी प्रशंसा की और नारी के प्रति सम्मान आदर और अधिकारों के शोषण से मुक्ति प्रदान कराए जाने में प्रशासन का कंधे से कंधा मिलाकर सहयोग करने की सभी से उप जिलाधिकारी रमेश कुमार ने अपील किया। आज के कार्यक्रम में सभी सहयोगी लोगों का आभार भी उप जिलाधिकारी
दुद्धी द्वारा व्यक्त किया गया।

सेराज खान / गोविन्द अग्रहरि / नितेश पाण्डेय / श्याम अग्रहरि

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read also x