दुद्धी ब्लाक क्षेत्र सहित फुलवार में भी बारिश से कई मकान ध्वस्त,गरीब परेशान

क्राइम जर्नलिस्ट(सह-सम्पादक श्याम अग्रहरि)

दुद्धी ब्लाक क्षेत्र सहित फुलवार में भी बारिश से कई मकान ध्वस्त,गरीब परेशान

फुलवार लेखपाल नही उठाते जन प्रतिनिधियो का फोन- प्रधान फुलवार

लगातार बारिश से फुलवार में दर्जनों गरीबो का आशियाना गिरे, जिम्मेदार नही ले रहे सुध

फुलवार के ग्रामीणों के काम की बात तो दूर, लेखपाल के दर्शन भी दुश्वार

महुली/सोनभद्र।(आनन्द कुमार चौबे) दुद्धी ब्लाक क्षेत्र के ग्राम फुलवार में मानसून की पहली बारिश से दो गरीब ग्रामीणों का मिट्टी का बना घर ध्वस्त हो गया।उसके पास जनसंख्या के हिसाब से अब रहने की अन्य कोई व्यवस्था भी नहीं है।जानकारी के अनुसार दो दिन से रुक रुक कर झमाझम बारिश के कारण गांव के रमेश घासिया पुत्र लछुमन व दिनाय भुइया पुत्र केशो के मिट्टी का घर गिर गये।घर के गिर जाने से परिवार बेघर हो गया।पीड़िता ने बताया की रात्रि में अचानक धीरे-धीरे मकान ढहने लगा।यह देख सभी घर के सदस्य घर से बाहर आकर अपनी जान बचाई।नही तो हम सभी परिवार वालो के साथ बड़ी दुर्घटना घट सकती थी।बताया कि घर में रखी हुई खाने पीने से लेकर अन्य आवश्यक चीजें निकाल नहीं पाने के कारण पूरी तरह नष्ट हो गया।जिससे हजारो हजार की नुकसान हुआ है।अब तो बारिश में मकान ढह जाने से उसका परिवार कहां रहेंगे।कैसे रहेंगे सबसे बड़ी समस्या उत्पन्न हो गई है।बताया कि एक तो वैश्विक महामारी हम गरीबों का जान ले रही है और ऊपर से मकान के ढह जाने से हमारा रहने का आसरा खत्म हो गया।ग्राम प्रधान दिनेश यादव ने बताया कि गांव में अधिकांश मिट्टी के घर हैं जो लगातार बारिश के कारण दर्जनों घर ध्वस्त हो गए है जिसकी सूचना हमने फुलवार लेखपाल को देने के लिए लगातार कोशिश कर रहे है लेकिन फोन नही उठ रहा है।लेखपाल द्वारा जनप्रतिनिधियों सहित ग्रामीणों का फोन नही उठाना बेहद चिंताजनक हैं।अगर लेखपाल के रवैया में सुधार नही हुआ तो जल्द तहसील मुख्यालय पहुच कर शिकायत किया जायेगा।अंत मे उन्होने कहा कि जब तक कुछ नहीं हो रहा है तब तक के लिए कुछ वैकल्पिक वेवस्था बनाया जा रहा है। जिससे लोगो को राहत मिले।इस बाबत फुलवार लेखपाल से सेल फोन के माध्यम से सम्पर्क करने का कोशिश किया गया लेकिन संपर्क नही हो सका।

क्षेत्र में ना जाने कितने मकान गिरे होंगे जेमेदार शासनिक अधिकारी को संज्ञान में लेते हुए क्षेत्रीय लेखपाल को पता कर राहत पैकेज गरीबो को देना चाहिए क्यो की अशिक्षित क्षेत्र हैं।

सेराज खान / गोविन्द अग्रहरि / नितेश पाण्डेय / श्याम अग्रहरि

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read also x