भारत में मिला कोरोना का नया वेरिएंट है 10 गुना ज्यादा संक्रामक, युवाओं पर कर रहा ज्यादा अटैक

क्राइम जर्नलिस्ट(टीम)

शोधकर्ताओं ने बताया कि यह वैरिएंट सबसे पहले आंध प्रदेश के करनूल शहर में पाया गया। इसे एपी वैरिएंट भी कहा जा रहा है। अब यह वेरिएंट आंध्र और तेलंगाना सहित देश के कई हिस्सों में तेजी से फैल रहा है। शोधकर्ताओं का दावा है कि दूसरी लहर के दौरान आंध्र और तेलंगाना में जितने भी नए मामले आए हैं, उसमें से एक तिहाई मामले इसी वेरिएंट के चलते आए हैं और यह लगातार फैलता ही जा रहा है। पिछले दो महीनों में देश के 50 फीसदी मामले सिर्फ चार राज्यों- कर्नाटक, महाराष्ट्र, तेलंगाना और छत्तीसगढ़ से आए हैं, जो संकेत देते है कि यह वेरिएंट इन इलाकों में फैल चुका है।

तीन से चार दिन में गंभीर हालत में पहुंच जा रहे मरीज
हैदराबाद के सेंटर फॉर सेलुलर एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी (सीसीएमबी) और गाजियाबाद के एकेडमी फॉर साइंटिफिक एंड इनोवेशन रिसर्च (एसीएसआईआर) के वैज्ञानिकों ने बताया कि इस नए वेरिएंट की वजह से लोग तीन से चार दिन में ही गंभीर हालत में पहुंच जा रहे हैं। ऐसा देखने में आ रहा है कि नया वेरिएंट जल्दी विकसित हो रहा है। इसका इनक्यूबेशन पीरियड और बीमारी फैलाने की समयसीमा कम है। ये काफी तेजी से फैल रहा है साथ ही ज्यादा लोगों को संक्रमित कर रहा है।

तेजी से युवा लोगों को भी चपेट में ले रहा
कोरोना की दूसरी लहर में नए वेरिएंट तेजी से लोगों को बीमार कर रहे हैं। एन440के वैरिएंट को लेकर वैज्ञानिक काफी चिंतित हैं। क्योंकि अभी इसके बारे में ज्यादा कुछ जानकारी सामने नहीं आ पाई है। यह वायरस से तेजी से युवा लोगों को निशाना बना रहा है। ये उन लोगों को भी संक्रमित कर रहा है जो फिटनेस को लेकर काफी सतर्क रहते हैं। साथ ही इम्युनिटी बहुत मजबूत है। इसके चलते लोगों के शरीर में साइटोकाइन स्टॉर्म आ रहे हैं।

सेराज खान / गोविन्द अग्रहरि / नितेश पाण्डेय / श्याम अग्रहरि

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read also x